Header Ads
Sports

हॉकी टीम के डिफेंडर मनप्रीत का कहना है कि पहली बार ओलंपिक में सीनियर टीम के साथ परियों की कहानी होगी

मनप्रीत ने कहा, “मुझे लगता है कि यह बहुत अलग महसूस होगा। लेकिन मैं अपने पैर जमीन पर रखना चाहता हूं और कड़ी मेहनत करना चाहता हूं।

आगामी टोक्यो ओलंपिक में पहला स्थान हासिल करने वाली भारतीय महिला हॉकी टीम की डिफेंडर मनप्रीत कौर का कहना है कि ओलंपिक एक परी कथा की तरह होगा। उन्होंने कहा कि कैप्टन रानी रामपाल उनके लिए बहुत बड़ी प्रेरणा हैं। 22 साल के मनप्रीत वर्तमान में बैंगलोर में भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) केंद्र में प्रशिक्षण ले रहे हैं। उन्होंने इस साल फरवरी में अर्जेंटीना के दौरे के साथ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया। उन्होंने कहा कि उनके दौरे से उनमें काफी आत्मविश्वास आया है। मनप्रीत ने कहा, “ओलंपिक जैसी ड्रीम प्रतियोगिता में सीनियर राष्ट्रीय टीम के लिए पदार्पण करना मेरे लिए एक परी कथा की तरह होगा। मुझे लगता है कि यह बहुत अलग लगेगा। लेकिन मैं अपने पैर जमीन पर रखना चाहता हूं और कड़ी मेहनत करना चाहता हूं।”

इन खिलाड़ियों को खेलते हुए देखकर बहुत अच्छा लगा
उसने कहा कि वह कप्तान रानी रामपाल और फॉरवर्ड नोजोजोत कौर जैसे वरिष्ठ खिलाड़ियों को खेलते हुए देखकर बड़ी हुई है। गार्ड ने कहा, “मैं रानी, ​​नवजोत और नोनेट को देखते हुए बड़ा हुआ हूं और मैं बचपन से ही उनका पीछा कर रहा हूं। शहाबाद की अन्य लड़कियों की तरह मैं भी रानी को अपना आदर्श मानती थी। वह मेरी सबसे बड़ी प्रेरणा हैं और शिविर में उनके साथ समय बिताना एक विशेष अहसास है। वह मेरे जैसे युवा खिलाड़ियों को सही दिशा में ले जाती है और टीम के सबसे बड़े प्रेरकों में से एक है।

यह भी पढ़ें- हॉकी इंडिया को मिला प्रतिष्ठित एटियेन ग्लिच अवार्ड

संयुक्त अर्जेंटीना दौरे का अनुभव
अर्जेंटीना दौरे के अपने अनुभव को साझा करते हुए मनप्रीत ने कहा, “यह लगभग एक साल में टीम का पहला दौरा था। मैं बहुत घबराया हुआ था लेकिन सीनियर्स ने मुझे बहुत प्रोत्साहित किया और मैं मैच दर मैच आत्मविश्वास हासिल करता रहा। यह एक बहुत अच्छी सीख थी। अनुभव भले ही यह एक अभ्यास मैच था।

यह भी पढ़ें- टोक्यो में इतिहास रच सकती है भारतीय महिला हॉकी टीम : हेलेन मेरी

हर दिन सीखने के लिए बहुत सी चीजें हैं
मनप्रीत ने कहा, ‘आपके पास मैदान के अंदर और बाहर अनुभवी खिलाड़ी हैं। इसलिए हर दिन बहुत सी चीजें सीखने को मिलती हैं। उन्होंने यह भी कहा कि जूनियर टीम के साथ उन्होंने जो अनुभव किया था, उससे चीजें बहुत अलग थीं। उन्होंने कहा, ‘यहां खाने से लेकर फिटनेस तक सब कुछ अलग है और आपको जल्द से जल्द एडजस्ट करना होगा। मनप्रीत ने हाल ही में अर्जेंटीना का दौरा किया, जो एक वरिष्ठ राष्ट्रीय टीम के साथ उनका पहला अंतरराष्ट्रीय दौरा था, लेकिन टीम ने वहां केवल अभ्यास मैच खेले।





.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button