Header Ads
Entertainment News

सर आप सच्चाई से क्यों डरते हैं? पनिया पर्सोना बाजुपाई के सवाल पर लोगों ने कमेंट करना शुरू कर दिया

वरिष्ठ पत्रकार पनिया प्रसन बाजपेयी सोशल मीडिया पर लगातार सक्रिय हैं। बाजपेयी आए दिन अपने दफ्तर में मोदी सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते रहते हैं. इस बार भी उन्होंने एक और पोस्ट किया जिसमें उन्होंने पूछा- ‘सर, आप सच्चाई से क्यों डरते हैं?’ इससे पहले बाजपेयी ने ट्वीट किया था कि वह सरकार का मजाक उड़ाते नजर आए- जजों की रीढ़ की हड्डी के बिना, भयभीत मीडिया, मनोरोगी नौकरशाही, विपक्षी नेताओं और जो कुछ भी वह चाहते थे। मणि की जरूरत है।

इससे पहले पोस्ट में बाजपेयी ने कहा था- देश में कोई नया राजनीतिक विचार क्यों नहीं है? जो लोग प्रकाश में आए वे जल्दी क्यों गायब हो गए? विरासत में मिले बच्चों की राजनीति बेवकूफी क्यों है? क्या धर्म की राजनीति ने भारतीय सभ्यता की नींव को हिला दिया?

व्यक्ति बाजपेयी के इन पोस्ट को देखने के बाद सोशल मीडिया पर ढेरों प्रतिक्रियाएं आने लगीं. प्रियंका सिंह नाम की एक यूजर ने लिखा, ‘हमेशा झूठ बोलने वाले लोग सच बोलने वाले लोगों से डरते हैं. मनीष नाम के शख्स ने कहा- वह बड़ा और होशियार पत्रकार हुआ करता था लेकिन मोदी अपने विपक्ष के अंधे सस्ते ट्रोल हो गए हैं।

शारदा तिवारी नाम की एक महिला यूजर ने कहा- सच बोलने से नहीं डरती सर, सत्ता गंवाने से डरती हूं. दीपक नाम के यूजर ने कहा- सच बोलने से क्यों डरते हो? तब बड़े-बड़े क्रान्तिकारी साक्षात्कार कर रहे थे! रेनो धवन नाम की यूजर ने कहा- सच कड़वा होता है, जो सिर्फ सुबह झूठ बोलते हैं, वो सच का सामना कैसे कर सकते हैं? एक यूजर ने लिखा- चैरिटी की शुरुआत घर से होती है, आपने पहले कहा।

रविंदर नाथ नाम के यूजर ने कहा- सच के डर का मतलब है कि वह झूठ के दायरे में है। वह बच नहीं सकता क्योंकि वह रास्ता भटक गया है। और जब रास्ता भूल जाता है, तो खुद बोझ बनकर बोझ ढोने से डरता है? राज नाम के एक यूजर ने कहा, ‘आपकी सच्चाई की परिभाषा ऐसी है कि अगर आम आदमी उससे डरता है तो वह एक महान नेता है, जिस पर बड़ी जिम्मेदारी है। इसी तरह के एक ट्वीट में पनिया पर्सन बाजपेयी ने प्रधानमंत्री की सुरक्षा की कीमत पर बात की और कहा- एक गरीब देश में अमीरों की हालत लोग इस तरह के कमेंट्स करने लगे



.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button