Header Ads
Business

सरकार कॉरपोरेट्स के प्रति दयालु रही है, लेकिन सर्वेक्षण में चौंकाने वाले खुलासे ने कर के बोझ से परिवारों की कमर तोड़ दी है।

मुंबई: घरों पर टैक्स का बोझ: कर का बोझ देश के परिवारों पर पड़ता है। एक रेटिंग एजेंसी के अनुसार, कराधान, विशेष रूप से अप्रत्यक्ष कर, लोगों को उपभोग पर अधिक खर्च करने से रोक रहा है। इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च द्वारा किए गए सर्वे में कई चौंकाने वाली शख्सियतें सामने आई हैं।

भारत रेटिंग सर्वेक्षण

रेटिंग एजेंसी के मुताबिक, देश के कॉरपोरेट्स को इनकम टैक्स से छूट है, लेकिन इसमें से कुछ उन परिवारों के लिए नहीं है, जो टैक्स बढ़ाने और टैक्स चुकाने का बोझ उठा रहे हैं। इंडिया रेटिंग्स एंड रिसर्च ने चेतावनी दी है कि घरेलू कर का बोझ खपत की वसूली में देरी कर सकता है। एजेंसी के अनुसार, महामारी से ठीक पहले ईंधन पर उत्पाद शुल्क में वृद्धि और संक्रमण की दूसरी लहर के माध्यम से अप्रत्यक्ष कर वृद्धि का प्रभाव पड़ा है।

यह भी पढ़ें- सातवां वेतन आयोग : केंद्रीय कर्मचारियों के डीए बकाया पर बड़ी खबर! 1 जुलाई से सिर्फ महंगाई भत्ता बढ़ेगा

कॉरपोरेट टैक्स गिरा, परिवारों पर बढ़ा बोझ

वित्तीय वर्ष 2010 में, परिवारों पर कर के बोझ का हिस्सा 60% से बढ़कर 75% हो गया। रिपोर्ट के मुताबिक, इसका मुख्य कारण ईंधन पर अधिक उत्पाद शुल्क और कॉरपोरेट टैक्स में कमी है। इसमें कहा गया है कि रोजगार को बढ़ावा देने और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को आकर्षित करने के लिए निगम करों को कम किया गया है। और हम इस कदम का समर्थन करते हैं, इसे एक वैध परिवर्तन कहते हैं, क्योंकि इसने हमारे निर्यात को अप्रतिस्पर्धी बना दिया है।

पेट्रोल और डीजल के बढ़ते दाम

रेटिंग एजेंसी के अनुसार, “हाल ही में, घरों पर कर का बोझ, विशेष रूप से अप्रत्यक्ष करों में काफी कमी आई है। इसने कहा कि उत्पाद शुल्क में वृद्धि ने पेट्रोल और डीजल की खुदरा कीमतों को दर्ज किया है और प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से घरेलू बजट को प्रभावित किया है। जब हम कोरोना के निशाने पर थे तो उससे पहले भी इसकी खपत घट रही थी। नौकरियों और वेतन कटौती ने कोरोना महामारी के दौरान बढ़ती लागत का असर दोगुना कर दिया है।

रेटिंग एजेंसी ने दी चेतावनी

रेटिंग एजेंसी, जिसने 2,000 गैर-वित्तीय निगमों में वेतन या वेतन वृद्धि का विश्लेषण किया, ने पाया कि 60% कॉरपोरेट्स ने वित्त वर्ष २०११ में रोजगार लागत कम कर दी थी और नुकसान की भरपाई होने की संभावना नहीं थी। रेटिंग एजेंसी ने चेतावनी दी है कि मध्यम अवधि में वेतन वृद्धि में मंदी का जोखिम खपत और मांग में सुधार को सीमित कर सकता है।

यह भी पढ़ें- जेफ बेजोस और एलोन मस्क सहित पच्चीस प्रमुखों ने करों का भुगतान नहीं किया, अमेरिकी कर प्रणाली का एक खुला सर्वेक्षण!

लाइव टीवी

.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button